Atma pra ka premi atma prabhu ka lyrics

आत्मा प्रभु का प्रेमी आत्मा प्रभु का
अभी तू आजा हमारे बीच में
अपनी आशीष उंडेल (2
)

1 दलदल के कीच में से,
दया से निकाल हमें (2)
पाप हटाकर साफ कर दे
अपनी सामर्थ से (2)

2 प्रभु के सीने में मैं,
सिर रखके आराम पाऊँ (2)
प्यासा हूँ मैं तेरे प्रति
प्यास दिला मुझे और (2)

3 आत्मा के वरदानों से,
तृप्त कर तू मुझे (2)
जाग उठू मैं जलने पाऊँ
ज्योति चमका मुझमें (2)

4 जीवन दिया तू ने,
जीवन दिलाया मैं भी (2)
जीवन जल की नदियां मुझसे
बहने पाये जग में (2)