Ho jai jai kar jai jai karre kare lyric

हो जय जयकार जय जयकार करे

1 . वह है हमारा राजा , दुःख संकट से बचाता ,,
हम पर अपनी करूणा करता , और करता उपकार
क्यों न उस पर तन मन हारें दे अपना अधिकार

2 .स्वर्ग है उसका सिंघासन , पृथ्वी बनी है आसन
आकाश उसकी महिमा बताये हस्तकला को दिखाए
सारी पृथ्वी उसकी रचना उसका ही है प्रताप

3 .उसपर जिसका भरोसा , वह तो कभीना डिगेगा
चाहे बीमारी चाहे गरीबी चाहे हो अकाल
सब संकट से सब कष्टों से हो जायेगा पार

Ho jai jaikar jai jaikar kare

1 . vah hai hamara raja , dukh sankat se bachata ,,
ham par apni karuna karta , aur karta upkar
Q na uspar tan man hare de apna adhikar

2 .svarg hai uska sighasan , prithvi bani ha asan
akash uski mahima bataye hastkala ko dikhaye
saree prithvi uski rachna uska hi hai pratap

3 .uspar jiska bharosa , uah to kabhina digega
chahe bimari chahe garibi chahe ho akal
sab sankat se sab kasto se ho jayega par